pooja agarwal

पूजा अग्रवाल पैरा निशानेबाजी में दुनिया में 11वें और एशिया में 12वें स्थान पर हैं ।

2012 में एक दुर्घटना में अपने दोनों पैर और बायां हाथ खोने के बाद वर्ष 2014 में पूजा अग्रवाल की बैंक प्रोबेशनरी अधिकारी के पद पर नियुक्ति हुई। फिर 2016 में वह पैरा शूटर बन गईं। और अब तक बहुत से मेडल अपने नाम किये ।

बुरी से बुरी परिस्थिति में भी कभी हौसला नहीं खोना चाहिए। जीवन में कुछ पल ऐसे आते है जो पूर्णतः अचंभित और निराशाजनक होते है। जिससे व्यक्ति की मानसिक स्थिति भी बिगड़ जाती है। लेकिन किसी विकट परिस्थिति में भी कभी अपने धैर्य और हिम्मत  नहीं खोनी चाहिए। निरंतर प्रयास ही वह शस्त्र है, जो हर तरह की परिस्थिति में से बाहर निकालने में मददगार साबित हो सकता है।

सोहनलाल द्विवेदी द्वारा रचित कविता ‘लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती’ तो आपने आवश्य पढ़ी होगी।

इस कविता को सच कर दिखाया है पूजा अग्रवाल। जिन्होंने अपने जीवन के संघर्षों से हार नहीं मानी। जिन्होंने अपनी असमर्थता में भी सामर्थ ढूंढ लिया। और अपनी कोशिशों से न केवल सफलता की ओर बढ़ी बल्कि देश को भी गौरवान्वित किया।

वह अब एक प्रशंसित पैरा-शूटर हैं, जिन्होंने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर देश के लिए पदक जीते हैं। 

आइये जानते हैं पूजा अग्रवाल के संघर्ष की कहानी…

यह भी पढ़ें- पावरलिफ्टिंग और बाॅडीबिल्डिंग प्रतियोगिताओं में हिजाब पहनकर लेती है भाग

कैसे हुई दुर्घटना

 2012 के सर्दियों के दिनों ने पूजा अग्रवाल के जीवन को पूरी तरह से बदल कर रख दिया। अगले दिन नव वर्ष की पूर्व संध्या थी। पूरे मेकअप और अपने कमर तक लंबे बालों से प्यार करने वाली नवविवाहित महिला अपने पति को विदा करने के लिए नई दिल्ली रेलवे स्टेशन गई थी। 

जब वह प्लेटफॉर्म पर चल रही थी, भीड़ ने अचानक उसे रेलवे ट्रैक की ओर धकेल दिया। कुछ ही सेकेंड में पूजा अग्रवाल को तेज रफ्तार ट्रेन ने कुचल दिया। उनकी जान बचाने के लिए डॉक्टर्स को उनके तीन अंगों दोनों पैर और बायें हाथ को काटना पड़ा। अब उनके पास केवल उनका दाहिना हाथ ही बचा।

उस समय, 27 वर्षीय पूजा अग्रवाल अपने जीवन के प्रमुख पड़ाव में थी, एक कॉलेज लेक्चरर के रूप में अपने काम का आनंद ले रही थी और एक रोमांचक भविष्य की प्रतीक्षा कर रही थी। उन्होंने सूचना प्रौद्योगिकी से परास्नातक की डिग्री प्राप्त की है।

दुर्घटना के वह पल उनके जीवन में सबसे ज्यादा भयानक थे, और उन्होंने खुद से लगातार पूछा, “अब क्या होगा”। 

उस दौरान भी लाखों कसमकश के बाद भी वह सोच रही थी कि “क्या होता अगर मेरा दाहिना हाथ मेरे बाएं हाथ के बजाय विच्छिन्न होता, तो शायद मेरा संघर्ष और भी बुरा होता। इसलिए जो पास है उससे खुद को आगे बढ़ाऊं।”

दिसंबर 2012 में वह दिल्ली आईं थी जहां उनके पति काम करते थे। उनकी शादी को छह महीने हो चुके थे। ट्रेन हादसे के बाद पूजा को आईएसआईसी (इंडियन स्पाइनल इंजरी सेंटर) में भर्ती कराया गया था। ट्रिपल विच्छेदन के बाद पूजा अपने ससुराल आ गई। उनकी माँ दैनिक कार्यों में उसकी मदद करने के लिए उसके साथ चली गई।

जल्द ही, पूजा को अपने ससुराल वालों और पति के व्यवहार में भारी बदलाव का एहसास हुआ। वे उनके प्रति इतने उदासीन हो गए कि वह अब उनके साथ नहीं रह सकती थी। महीनों के भीतर, उसकी शादी टूट गई। वह अपने पति से अलग हो गई और उनका तलाक हो गया।

यह भी पढ़ें- पर्वतारोही बलजीत कौर ने 30 दिनों में 8,000 मीटर से ऊंची 5 चोटियों पर फतह कर रचा

करी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी

पूजा अग्रवाल अपनी मां के साथ शहर में किराए के मकान में रहने लगी। अपने कमरे में कैद, उन्हें दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को करने में परेशानी होती थी। पूजा अग्रवाल को अपने लंबे बाल काटने पड़े क्योंकि उन्हें संभालना मुश्किल हो रहा था।

धीरे-धीरे उन्होंने अपने दाहिने हाथ का इस्तेमाल छोटे-छोटे कामों में करना सीख लिया और उस समय उनका एक ही विचार था कि नौकरी कैसे प्राप्त करें और आर्थिक रूप से स्वतंत्र कैसे बनें। उसकी शादी खत्म हो गई थी, और उसके पास उनके सपनों और महत्वाकांक्षाओं के रास्ते में भाग्य को नहीं आने देने का दृढ़ संकल्प था।

उन्होंने प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी शुरू कर दी और अपने कृत्रिम अंगों में फिट होने के लिए संघर्ष किया। जल्द ही, वह बिना खून बहे चलने में सफल हो गई। उन्होंने आईबीपीएस की तैयारी की और परीक्षा पास की। पूजा को इलाहाबाद बैंक में प्रोबेशनरी ऑफिसर की नौकरी मिल गई। 

इस तरह, उसकी मेहनत रंग लाई और वह जून 2014 में बैंक ऑफ इलाहाबाद (अब विलय के बाद इंडियन बैंक) की गुजरांवाला टाउन शाखा में शामिल हुई।

यह भी पढ़ें- पारूल चौधरी ने 3000 मीटर स्पर्धा में 6 साल का रिकार्ड तोड़ बनाया नया नेशनल रिकार्ड

कैसे बनी पैरा शूटर

आठ महीने बाद एक एथलीट मित्र प्रज्ञा ने पूजा अग्रवाल को खेलों में आने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होंने यह कहकर हँस दिया कि वह काम भी नहीं कर सकती। लेकिन जब वह इंडियन स्पाइनल इंजरीज सेंटर (आईएसआईसी) गई और लोगों को व्हीलचेयर से बास्केटबॉल खेलते देखा, तो उसकी दिलचस्पी बढ़ गई। “वे हँस रहे थे और खुश थे।” 

उन्होंने विभिन्न खेलों का अध्ययन करना शुरू किया जिनका वह अभ्यास कर सकती थी और टेबल टेनिस को चुना। बीच में, उन्होंने पैरा-एथलीटों के लिए एक परिचयात्मक शूटिंग शिविर में भी भाग लिया, और यह उन्हें बहुत दिलचस्प लगा। 

पूजा अग्रवाल एक समय में ऑफिस, टेबल टेनिस और शूटिंग तीनों काम एक साथ कर रहीं थीं। एक दिन वह बैंक में बेहोश हो गई और उन्हें केवल एक खेल खेलने की सलाह दी गई। उन्होंने शूटिंग को चुना और 2016 में अपनी पहली प्रतियोगिता प्री-नेशनल में भाग लिया।

पूजा अग्रवाल अभ्यास के लिए रोहिणी स्थित अपने आवास से दिल्ली के तुगलकाबाद शूटिंग रेंज तक 40 किमी का सफर तय करती है। कभी-कभी एक तरफ की यात्रा में दो-तीन घंटे लग जाते हैं। 

उन्होंने अपने सपनों को पूरा करने के लिए शूटिंग उपकरण और एक शूटिंग व्हील चेयर दूसरों से उधार ली और खेल में अपने लिए जगह बनाई।

8 नवंबर, 2016 जिस दिन वह स्वर्ण पदक जीतकर लौटी, वह वह दिन था जिसे वह कभी नहीं भूल पाएगी। और उसके बाद उन्होंने कभी पलट कर नहीं देखा।

जब ‘ देश के प्रधानमंत्री ने नोटबंदी की घोषणा की और रातोंरात चीजें बदल गईं। एक बैंकर के रूप में, उन्हें अधिक घंटों तक काम करना पड़ा। 

उन्हें दिसंबर में राष्ट्रीय खेलों के लिए भी प्रशिक्षण लेना था, और वह हर दिन आधी रात के बाद घर आती। इस बीच उन्होंने अपने पिता को भी खो दिया। यह उनके लिए एक कष्टदायक समय था। 

वह इवेंट से एक दिन पहले नेशनल के लिए रवाना हुई और गोल्ड मेडल लेकर घर लौटी। विभिन्न चुनौतियों का सामना कर अपनी सफलताओं के बावजूद, पूजा अभी भी उधार की पिस्तौल से शूटिंग कर रही थी।

बाद में, स्पोर्ट्सक्राफ्ट्ज़ के प्रबंध निदेशक, विपिन विग ने उन्हें अपने बेटे की पिस्तौल पूजा अग्रवाल को दी, जिसके साथ उन्होंने 2017 में अल ऐन, संयुक्त अरब अमीरात में अंतर्राष्ट्रीय विश्व कप में रजत पदक जीता। 

उसी वर्ष उन्होंने 61वीं राष्ट्रीय निशानेबाजी चैम्पियनशिप 2017 में 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में रजत पदक जीता। बाद में उन्होंने वर्ल्ड शूटिंग पैरा स्पोर्ट वर्ल्ड कप 2018 में 10 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता।

जल्द ही, उन्हें बैंक से धन प्राप्त हुआ और अपनी खुद की पिस्तौल मिल गई। वह बैंकाक चैंपियनशिप में सफल रही, एशियाई खेलों और विश्व चैंपियनशिप के लिए क्वालीफाई किया, और क्रोएशिया विश्व कप में कांस्य पदक जीता। उन्होंने जून 2021 में पेरू के लीमा में हुए विश्व कप में टीम में दो रजत पदक जीते।

पूजा अग्रवाल का स्पोर्टिंग पैशन 10 मीटर एयर पिस्टल (एसएचआईए) निशानेबाजी है और वह पैरा निशानेबाजी में दुनिया में 12वें और एशिया में 11वें स्थान पर हैं। 

यह भी पढ़ें- 94 साल की भगवानी देवी ने जीता 100 मीटर दौड़ में गोल्ड मेडल

शुरू किया Youtube चैनल

जब महामारी आई, तो पूजा अग्रवाल को कुछ महीनों के लिए प्रशिक्षण बंद करना पड़ा। एक बैंक में अधिकारी के रूप में घर से काम कर रही थी। तभी उन्हें एक Youtube चैनल लॉन्च करने का विचार आया, जो विशेष रूप से विकलांग लोगों को ऐसे कार्य करने में मदद कर सकता है जो उन्हें लगता था कि असंभव है।

महामारी में, उनके YouTube चैनल – पूजा अग्रवाल पी क्रिएशंस, ने आकार लिया। अमेरिका में रहने वाली उनकी एक स्कूल की सहेली ने उन्हें वीडियो शूट करने के लिए प्रोत्साहित किया ताकि कई अन्य लोगों की मदद की जा सके, जिन्हें विकलांगता के कारण चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। उनकी माँ, जिन्होंने पहले कभी फोटो नहीं खींची थी, उन्होंने फोन का उपयोग करके वीडियो रिकॉर्ड करना सीखा। कभी-कभी, पूजा अग्रवाल खुद वीडियो शूट करती और उन्होंने वीडियो एडिट करना भी सीखा।

यह भी पढ़ें- भारत की पहली महिला कमांडो ट्रेनर दे चुकी हैं 20,000 सेना जवानों को निःशुल्क प्रशिक्षण

निराशा जीवन का अंत नहीं बल्कि वह पहलु है जो आपको एक निर्णय लेने के लिए प्रेरित करता है। यह आपके चुनाव पर निर्भर करता है कि आप अंधेरे की ओर जा रहें हैं या रोशनी की ओर।

Jagdisha पूजा अग्रवाल आप साहस और दृढ़ संकल्प का एक उत्कृष्ट उदाहरण है। आपको जगदिशा का सलाम।

Leave a Reply

Your email address will not be published.