priyanshi somani human calculator

बात अगर पढ़ाई-लिखाई की करे तो मैथ्स तो समझो किसी राक्षस से कम नही बच्चों के लिए | स्कूल में भी मैथ्स के टीचर सबसे खतरनाक की श्रेणी में आते हैं | जिस दिन मैथ्स के टीचर छुट्टी पर हो या मैथ्स का पीरियड लगे ही न उस दिन तो जैसे मौज आ गई बच्चों की |

आज कल तो बच्चे मैथ्स के सवाल हल करने के वजाय हिन्दी-इंग्लिश की तरह पढ़ते है | मैथ्स से तो मानो वो पिछा छुड़ाना चाहते है |

लेकिन जैसे सिक्के के दो पहलू होते है, वैसे ही मैथ्स कुछ बच्चों का पसंदीदा विषय भी होता | जिन्हें मैथ्स मजेदार और एक खेल जैसी लगती है | वे मैथ्स के सवाल को समझते है और उनके हल उनके उचित सूत्र के अनुसार निकालते है |

आज हम आपको एक ऐसी लड़की के बारे में बता रहे है जो नंबरो के साथ खेलती हैं | वह पलक झपकते ही नंबरो को अपने दिमाग में ही बिना कैलकुलेटर के हल कर लेती है | 

हम बात कर रहे है मानव कैलकुलेटर प्रियांशी सोमानी की जिनका दिमाग नंबरो की गणना बहुत तेज कर लेता है | उन्होंने सिर्फ 11साल की उम्र में न केवल विश्व रिकॉर्ड बनाया बल्कि कई रिकॉर्ड भी तोड़े हैं |

2010 में आयोजित मानसिक गणना विश्व कप में वह अपनी जीत का बिगुल बजा चुकी है |

प्रियांशी सोमानी मेन्टल कैलकुलेशन विश्च चैम्पियनशिप 2020 में स्वर्ण पदक जीत कर भारत का नाम रौशन कर चुकी हैं |

6.51 मिनट में प्रियांशी सोमानी ने 11 साल की उम्र में 6 अंकों की संख्या का 8 अंकों तक वर्गमूल बडी आसानी से अपने दिमाग में निकाल लिया था |

यह भी पढ़ें- हर महिला को सशक्त होने के लिए ये जानना बहुत जरूरी है

जन्म

प्रियांशी सोमानी का जन्म 16 नवंबर 1998 में गुजरात के सूरत हुआ था | प्रियांशी की मां का नाम अंजू सोमानी और पिता का नाम सत्येन सोमानी है |

आपने बच्चों को जिस उम्र में खिलौनो से खेलते देखा होगा उस उम्र में प्रियांशी सोमानी अपने दिमाग में नंबरो का हल निकाल डालती थी |

मैथ्स कैलकुलेशन का सफर कैसे हुआ शुरू

अपनी बेटी का मैथ्स के प्रति रूझान देख प्रियांशी सोमानी के माता-पिता ने 6 साल की उम्र से उन्हें मेंटल मैथामैटिक्स की कक्षाओं में भेजना शुरू किया जहां पर उन्हें गणित की बड़ी से बड़ी संख्या का कैलकुलेशन दिमाग में ही करना सिखाया गया | यह वह तकनीक है जो गणित के जटिल सिद्धांतो को सरलता से समझने में मदद करती है |

फिर क्या था, वह कागज और पेन्सिल के बिना ही मैथ्स के सवालों को हल करने लगी थीं | 

धीरे-धीरे वो अभ्यास करती रहीं और अपनी कैलकुलेशन में हर रोज सुधार करती गईं |

7 साल की उम्र में आते आते, 2006 में वह भारत में आयोजित अबेकस और मानसिक अंकगणितीय प्रतियोगिता में नेशनल चैंपियन बन गईं |

इस शानदार जीत के बाद प्रियांशी सोमानी 2007 में, मलेशिया में आयोजित एक अंतराष्ट्रीय अबेकस प्रतियोगिता में हिस्सा लिया और वहाँ भी अपनी प्रतिभा का जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए चैम्पियन बनी | 

यह सिलसिला 2010 में भी कायम रहा और 6:51 मिनट में मानसिक गणना विश्वकप में प्रियांशी सोमानी ने 8 महत्वपूर्ण अंकों तक का वर्गमूल निकालने के लिये भी पहला स्थान प्राप्त किया |

इसके साथ ही उन्होंने 6:28 मिनट में वर्गमूल के 10 अलग अलग कैलकुलेशन को भी सही तरीके से हल करके सारे रिकॉर्ड तोड़ दिये | 

साल 2012 में उन्होंने 6 अंकों की संख्या का 2:43 मिनट में 10 अंकों तक का वर्गमूल ज्ञात करके नया विश्व रिकॉर्ड बनाया |

2020 में प्रियांशी सोमानी मेंटल कैलकुलेशन विश्व चैम्पियन में भी पहला स्वर्ण पदक अपने नाम कर चुकी हैं |   

प्रियांशी सोमानी को भारत की सबसे युवा ह्यूमन कैलकुलेटर होंने का सम्मान प्राप्त है | साथ ही उनका नाम लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड व गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज है |

मैथ्स के सवालो को हल करने केे अलावा प्रियांंशी सोमानी को थियेटर से भी बहुत लगाव है और फिलहाल वह थिएटर में सक्रिय हैं |

हर बच्चे में अलग-अलग प्रतिभा होती है | अभिभावको को चाहिए कि वे अपने बच्चों की प्रतिभा को पहचाने और उनका सहयोग करें | क्योंकि प्रतिभा जितनी निखरेगी उतनी ही चमकती भी जायेगी | मेहनत और लगन का परिणाम हमेशा सकारात्मक ही होता है |

यह भी पढ़ें-  8वी तक पढ़ी हस्तशिल्पकार एवं महिला उद्यमी ने 75 गाँवों की 22 हजार महिलाओं को बनाया आर्थिक रूप से स्वतंत्र और आत्मनिर्भर

आपको कैसी लगी प्रियांशी सोमानी की यह कहानी? हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताए | आपका सहयोग ही हमारा मनोबल है |

हर इंसान के विचार अलग होते हैं | उसी तरह हर किसी के अपने ही अलग सपने होते है | किसी को समय पर सहयोग मिल जाता है तो वह अपने पथ पर जल्दी ही अग्रसर हो जाता लेकिन किसी को स्वयं ही संघर्ष करना होता है | लेकिन मेहनत, आत्मविश्वास और जज्बा होना सबसे अधिक आवश्यक है | 

आप भी अपने हुनर को पहचाने और अपने सपनो को उड़ान दे |

Jagdisha आप भविष्य मे नए मील के पत्थर बनाये और अपार ख्याति प्राप्त करें |

Leave a Reply

Your email address will not be published.