भारत में महिलाओं के लिए सोलो ट्रिप की 10 स्थान

घुमने का मन है, लेकिन जाएं तो जाएं कहाँ? क्या अकेले घुमने जाने की बना रही हैं योजना? अब महिला होने के नाते कौन से हो सकते है सुरक्षित स्थान? जहाँ बिना डरे अपनी यात्रा का आनंद लिया जा सके | 

आइये जानते है, उन जगाहों के बारे में जहाँ महिलाएं बिना डरे घुम सकती है…

1. पुडुचेरी

दक्षिण भारत के सबसे प्रसिद्ध पर्यटक स्थानों में पुडुचेरी सुरक्षा की दृष्टि से महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित माना जाता है | समुन्द्र के बीचो-बिच बसा हुआ ये राज्य अपने प्रकृतिक और खूबसूरत बीच के लिए जाना जाता है | रंगीन अनोखे घर, साफ-सुथरी गलियां और यहां के आकर्षक कैफे निश्चित रूप से आपके दिल में ही बस जायेंगे | 

पुडुचेरी अपने शांतिपूर्ण माहौल और सुरम्य समुद्र तटों के लिए प्रसिद्ध है | पुडुचेरी कई सालों तक फ्रांस का उपनिवेश रहा है | यहां कई फ्रेंच कॉलोनियां भी हैं | इस पूरे शहर को योजनाबद्ध रूप से फ्रेंच शैली में बनाया गया है | यहाँ की गलियों की इमारतें किसी फ्रेंच कॉलोनियों से कम नहीं लगती |

लोकप्रिय गंतव्य हैं, बेसिलिका ऑफ द सेक्रेड हार्ट ऑफ जीसस, इमैक्युलेट कंसेप्शन कैथेड्रल, अरबिंदो आश्रम, मातृमंदिर, फ्रेंच वॉर मेमोरियल, बॉटनिकल गार्डन, वेदपुरेश्वर मंदिर, गौबर्ट मार्केट व्हाइट टाउन, रोविले बीच, रॉक बीच, पैराडाइज बीच, सेरेनिटी बीच, प्रोमेनेड बीच, ऑरोविले बीच |

2. लद्दाख

लद्दाख की प्राकृतिक सुंदरता के तो क्या कहने | झीलों के बीच बसे इस स्थान पर महिलाएं सुरक्षित रूप से यात्रा कर सकती हैं |

यहां की चमकती झीलें और बर्फ से ढके पर्वत आपको प्रकृति का अद्भुत दर्शन देंगे | लद्दाख अपने शांत, अकल्पनीय दृश्यों, ऐतिहासिक स्थानों और बौद्ध संस्कृति के कारण भारत में यात्रियों के बीच काफी लोकप्रिय है |

लद्दाख की जांस्कर घाटी भारत की खूबसूरत जगहों में से एक है | गुफा मठों के कारण यह घाटी पूरे विश्व में प्रसिद्ध है | यहां साल के 9 महीने तेज बर्फ गिरती है और इस कारण यहां की सुंदरता और अधिक बढ़ जाती है | जांस्कर घाटी में पर्यटक रिवर राफ्टिंग और ट्रैकिंग का आनंद लेते हैं |

विशाल बर्फ से ढके पहाड़, शुष्क मैदान, शांत घाटियाँ, और पैंगोंग झील का क्रिस्टल नीला पानी, लद्दाख प्राकृतिक की सौम्यता के दिवानो के लिए सबसे अच्छे स्थलों में से एक है |

लद्दाख में घूमने के लिए कुछ प्रसिद्ध स्थान लेह, शांति स्तूप और डबल कूबड़ वाले ऊंट की सवारी, नुब्रा घाटी, अंजूर झील, खारदुंग ला, और शांति स्तूप हैं | और डबल कूबड़ वाले ऊंट की सवारी नही की तो क्या किया!

3. ॠषिकेश

भारत ही नही बल्कि दुनिया में योग की राजधानी के रूप में ऋषिकेश को जाना जाता है | साथ ही भारत की साहसिक राजधानी के रूप में भी जाना जाता है | यह एकल यात्रा करने वाली महिलाओं के लिए सबसे सुरक्षित स्थान माना जाता है |

ऋषिकेश में, आप भव्य गंगा आरती देख सकते हैं और रिवर राफ्टिंग, बंजी जंपिंग, ज़िपलाइनिंग, रॉक क्लाइम्बिंग, क्लिफ जंपिंग, ज़ोरबिंग, रैपलिंग, पैराग्लाइडिंग, वैली क्रॉसिंग, कयाकिंग जैसी साहसिक गतिविधियों में भाग ले सकते हैं | भारत में सबसे ऊंचा बंजी जंपिंग पॉइंट भी ऋषिकेश में ही है |

इसके अलावा, स्वर्ग निवास मंदिर, श्री त्र्यंबकेश्वर मंदिर, लक्ष्मण झूला और महर्षि महेश योगी आश्रम – यात्रा करना न भूलें | यानी अडवेंचर के साथ-साथ स्पिरिचुअल अनुभूति का भी अनुभव कर सकते हैं |

4. मुन्नार

पश्चिमी घाटों का असली पहाड़ी शहर, मुन्नार निश्चित रूप से आपके मन को अद्वितीय शांति से भर देगा | फैले चाय के बागान जहाँ तक आपकी नजर जा सकती हो, मसाले के बागानों, अपनी लुढ़कती धुंध से ढकी पहाड़ियों, झिलमिलाती झीलें, गड़गड़ाहट वाली नदियों, लंबी पैदल यात्रा का अनुभव, सुखद मौसम, घुमावदार पगडंडियों, वन्यजीव और स्थानिक वन्य जीवन ऐसे कई कारणों में से कुछ हैं जो इस जगह पर आपको जाने के लिए प्रेरित कर सकते है |

मुन्नार, देश के सबसे शांत और प्राकृतिक खूबसूरती वाले स्थानों में से एक है | यह हिल स्टेशन केरल के इडुक्की जिले में है और यहां के लोग बहुत ईमानदार और मेहनती माने जाते हैं |

यह भारत के सबसे सुरक्षित माने जाने वाले पर्यटन स्थलों में से एक है |

5. वाराणसी

वाराणसी यानी महादेव का धाम | इस शहर की ऊर्जा ही अलग है | भारत के सबसे पवित्र स्थानों में से एक, वाराणसी आध्यात्म के साथ-साथ समृद्ध भारतीय संस्कृति की एक झलक है | शहर में किसी भी समय, आप भारतीय और विदेशी महिलाओं को मंदिरों में श्रद्धांजलि अर्पित करते देख सकते हैं | आप यहाँ योग का अभ्यास कर सकते हैं या आश्रम में सत्संग में भाग ले सकते हैं | आप जो भी करें, प्रसिद्ध गंगा आरती देखना न भूलें |

विश्व का सबसे पुराना शहर, वाराणसी – जिसे काशी और बनारस के नाम से भी जाना जाता है, भारत की आध्यात्मिक राजधानी है | यह हिंदू धर्म के सात पवित्र शहरों में से एक है | वाराणसी का पुराना शहर गंगा के पश्चिमी तट पर स्थित है, जो संकरी गलियों की भूलभुलैया में फैला हुआ है | पैदल चलने और कुछ पवित्र गायों का सामना करने के लिए तैयार रहें |

यह शहर जीवन और मृत्यु के चक्र से मोक्ष या मुक्ति प्रदान करता है | आध्यात्मिक रूप से ज्ञानवर्धक, शहर का दिल घाटों के चारों ओर धड़कता है, जिनमें से लगभग 80 घाट गंगा की सीमा पर हैं | 

यहाँ गरमा गरम चाट खाने और ठंडी लस्सी पीने से न चूकें |

वाराणसी में घूमने के लिए कुछ प्रसिद्ध स्थान हैं – काशी विश्वनाथ मंदिर, दशाश्वमेध घाट, मणिकर्णिका घाट, अस्सी घाट, ज्ञानवापी मस्जिद, भारत माता मंदिर, रामनगर किला, जंतर मंतर |

6. नैनीताल

उत्तराखंड की घाटियों में स्थित नैनीताल वास्तव में धरती पर सपनों का शहर है | यह शहर धरती पर स्वर्ग के समान है |

एकल महिला यात्रा के लिए उत्तराखंड को देश के सबसे सुरक्षित स्थानों में से एक माना जाता है | आप यहाँ पर घुड़सवारी, कैम्पिंग और ट्रेकिंग कर सकते हैं | 

नैनीताल की सुंदरता का आनंद लेने के लिए आप केव गार्डन, चाइना पीक पर ट्रेकिंग, स्नो व्यू, रोपवे, टिफिन टॉप, हिमालयन दर्शन, लवर्स पॉइंट, भीमताल, माल रोड, बोट हाउस क्लब, नैनी झील में बोटिंग, कॉर्बेट नेशनल पार्क जैसी जगहों पर जा सकते हैं |

गर्मी हो या सर्दी, नैनीताल हर मौसम के लिए एक गंतव्य स्थान है | साथ ही, यहां पहुंचना काफी आसान है क्योंकि कई बसें और ट्रेनें काठगोदाम (पहाड़ी शहर से 36 किमी) को दिल्ली से जोड़ती है |

7. शिलॉन्ग

मेघालय स्त्री-प्रधान समाज होने के कारण महिलाओं को यहां सुरक्षित वातावरण मिलता है | यहां आपको रात में भी अकेले घूमने में किसी भी तरह की समस्या नहीं आती है | यहाँ के बाजारों में भी आपको महिलाएं ही सबसे ज्यादा व्यापार करती हुई नजर आएंगी |

शिलॉन्ग की हरीभरी जगहों के अलावा आप भारत के कुछ बढ़िया रॉक बैंड्स की परफॉरमेंस का भी मजा यहां ले सकते हैं |

शिलॉन्ग प्राकृतिक सुंदरता का एक उत्तम उदाहरण है | समुद्र तल से 4,908 फीट की ऊंचाई पर स्थित शिलॉन्ग एकमात्र ऐसा हिल स्टेशन है जहां सभी तरफ से पहुंचा जा सकता है |

यह शहर अपने पर्यटकों का मंत्रमुग्ध करने वाले झरनों, क्रिस्टल स्पष्ट आसमान और विशाल पहाड़ों के साथ स्वागत करता है | ठंडे दिनों और ठंडी रातों के अलावा, मेघालय की राजधानी में अद्भुत प्राकृतिक नज़ारे, कई ऐतिहासिक स्थल, जातीय जनजातियों के रहने वाले विचित्र गाँव और मुँह में पानी लाने वाला भोजन यानी यहाँ आकर तो आप प्रफुल्लित हो जायेगें |

शिलॉन्ग जा रहें हैं, तो उमियाम झील, मावलिननॉन्ग, शिलॉन्ग पीक, एलीफेंट फॉल्स, पुलिस बाज़ार, मौसिनराम, डॉन बॉस्को म्यूज़ियम, वार्ड झील, लेडी हैदरी पार्क जाना न भूले |

8. दार्जलिंग

दार्जलिंग में कंचनजंगा पहाड़ की खूबसूरती, घने जंगल, मिरिक लेक, टॉय ट्रेन का मस्ती भरा सफर, लॉयड बोटैनिकल गार्डन में संजोकर रखे गए दुर्लभ प्रजाति के पौधे और विलुप्त होने के कगार पर आ चुके हिमालय की प्रजाति के जानवर ऐसा बहुत कुछ है जो आपको अतुलनीय अनुभव कराने में सक्षम है |

पश्चिम बंगाल में केवल एक ही हिल स्टेशन है और यह अत्यंत खूबसूरत है | यह एकल महिला यात्रियों के लिए एक सुरक्षित एकल यात्रा गंतव्य स्थान हैं |

9. गोवा

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय और प्लान इंडिया द्वारा तैयार की गई एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में गोवा एक ऐसा स्थान है, जहां महिलाएं सबसे अधिक सुरक्षित रहती हैं | गोवा का माहौल पूरे देश से सबसे अलग है, और यहां खूबसूरत बीच के साथ-साथ एडवेंचर स्पोर्ट्स का आनंद लिया जा सकता है |

गोवा, एक ऐसी जगह है जहां सब अपनी मस्ती में खोए रहते हैं, कोई किसी के जीवन में हस्तक्षेप नहीं करता और यहां अलग-अलग जगहों से महिलाएं घुमने के लिए आती रहती हैं |

गोवा में घूमने के लिए कुछ प्रसिद्ध स्थान हैं – बागा बीच, अगुआड़ा किला, बेसिलिका ऑफ बॉम जीसस, दूधसागर फॉल्स, अंजुना बीच, कलंगुट बीच, से कैथेड्रल, अवर लेडी ऑफ द इमैक्युलेट कॉन्सेप्शन, सिंक्वेरिम बीच |

10. उडुपी

अगर आप पहाड़ियों और समुद्र तटों के बीच फैसला नहीं कर पा रहें? तो फिर उडुपी में आप दोनों दुनिया के सर्वश्रेष्ठ अनुभव ले सकते हैं |

कर्नाटक के तट पर एक सुंदर सा छोटा शहर, जो विभिन्न समुद्र तटों, झरनों और शानदार पहाड़ियों का घर है |

कुंदाद्री पहाड़ी में सूर्योदय देखकर अपने दिन की शुरुआत करें, दोपहर के समय अरबी झरने के पानी में डुबकी लगाएं और सूर्यास्त के समय हुडे समुद्र तट पर शांत चित्त से बैठकर अपने दिन का अंत करें | मणिपाल निश्चित रूप से एकल महिला यात्रा के लिए सुरक्षित स्थल है |

आपको यह जाकारी कैसी लगी? कमेंट बॉक्स में बताना न भूले |

Jagdisha अपनी राय हमारे साथ अवश्य सांझा करें |

Leave a Reply

Your email address will not be published.