menstrual cycle process

क्या आप जानती है जब एक लड़की का जन्म होता है, तब वह अपने साथ 10 से 20 लाख अंडो के साथ पैदा होती है |

ये अंडे ही तो यौवनारंभ के साथ हर लड़की के पीरियड होने का एक कारण भी है | मगर आपके जीवनकाल में मात्र कुछ ही अंडाणु अंडाशय से बाहर निकलते है |

अंडाशय में अंडों का यह संग्रह समय के साथ-साथ कम होता जाता है | आपके पीरियड के शुरूआत के साथ केवल तीन लाख अंडाणु ही जीवन क्षमता रखते हैं |

इनमें से एक अंडाणु हर मासिक धर्म चक्र के दौरान परिपक्व होता है | परिपक्व अंडाणु डिंबोत्सर्जन (ओव्यूलेशन) के दौरान अंडाशय से बाहर निकलता है | जिसे डिंबवाही नलिका (फैलोपियन ट्यूब) के फर्नदार छोर द्वारा पकड़ लिया जाता है, और सौम्यता के साथ इसे आगे गर्भाशय तक ले जाया जाता है |

अंडाणु डिम्बवाही नलिकाओं से गुजरता है | साथ ही हार्मोन गर्भाशय के अस्तर (यूटेरस लाइनिंग) को मोटा बनाते हैं, और गर्भावस्था के लिए तैयार होते हैं |

अगर इस यात्रा के दौरान शुक्राणु अंडाणु को निषेचित कर देता है, तो यह गर्भाशय में पहुंचने पर वहीं रह जाता है | और महिला गर्भवती हो जाती है |

अगर गर्भधारण नहीं होता है तो गर्भाशय अनिषेचित अंडा और गर्भाशय के टिश्यू योनि से रक्तस्त्राव के जरिए बाहर निकलते है | इस प्रक्रिया को पीरियड कहते हैं |

एक अंडाणु के निषेचित होने से पीरियड के शुरू होने तक लगभग 10 से 16 दिन लगते हैं |

पीरियड के पहले दिन से अगले पीरियड के शुरू होने के बीच का समय मासिक धर्म चक्र कहलाता है | 

12 से 52 साल की उम्र के बीच किसी भी महिला को लगभग 480 बार पीरियड होते है, अगर वह इस दौरान गर्भवती होती है इससे कम |

मासिक धर्म चक्र को समझने के लिए सबसे पहले एक महिला के शरीर के प्रजनन अंगों के बारे में जान लेते हैं:

दो अंडाशय – बादाम के आकार के अंग जहां अंडे संग्रहीत, विकसित और जारी किए जाते हैं |

गर्भ (गर्भाशय) – गर्भ, एक नाशपाती के आकार का अंग है, आपकी मुट्ठी के आकार की तरह, मूत्राशय और निचली आंतों के बीच | जहां एक निषेचित अंडा स्थापित होता है और गर्भावस्था विकसित होती है |

डिम्बवाही नलिकाएं (फैलोपियन ट्यूब) – दो पतली ट्यूब जो अंडाशय को गर्भ से जोड़ती हैं |

गर्भाशय ग्रीवा – योनि से गर्भ का प्रवेश द्वार |

योनी – गर्भाशय ग्रीवा को शरीर के बाहर जोड़ने वाली मांसपेशी की नलिका |

एंडोमेट्रियम – गर्भाशय की आंतरिक परत होती है और यह मासिक धर्म प्रवाह के रूप में निकलती है |

मासिक धर्म चक्र हार्मोन द्वारा नियंत्रित होता है…

मासिक धर्म चक्र में चार प्रमुख हार्मोन शामिल होते हैं: फॉलिकल-स्टिम्युलेटिंग हार्मोन, ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन, एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन |

मासिक धर्म चक्र की औसत लंबाई 28 दिन होती है, लेकिन यह महिला से महिला और एक चक्र से दूसरे चक्र में भिन्न हो सकती है | नियमित चक्र जो इससे लंबे या छोटे होते हैं, 21 से 35 दिनों तक, सामान्य होता हैं | मासिक धर्म चक्र की लंबाई की गणना एक महिला के पीरियड के पहले दिन से उसके अगले पीरियड के पहले दिन तक की जाती है |

लड़कियों में मासिक धर्म चक्र 21 से 45 दिन तक का हो सकता है |

हार्मोन संकेत मस्तिष्क और अंडाशय के बीच आदान प्रदान होते हैं | जिसके कारण अंडाशय की थैली जिसमें अंडे होते है और गर्भाशय में परिवर्तन होता है |

मासिक धर्म चक्र प्रक्रिया क्या है?

पीरियड के रक्तस्राव के पहले दिन को चक्र का पहला दिन माना जाता है | महिलाओं में, रक्तस्राव 2 से 8 दिनों तक रहता है और औसतन 5 दिन होता है |

इस समय एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन का स्तर कम होता है | एस्ट्रोजन हार्मोन के निम्न स्तर के कारण आपको उदासी या चिड़चिड़ाहट महसूस हो सकती है |

चक्र के 1 से 5 दिनों के दौरान, अंडाशय में द्रव से भरी हुई जेबें, जिन्हें फॉलिकल्स कहा जाता है, विकसित होती हैं | प्रत्येक फॉलिकल में एक अंडा होता है |

5 से 7 दिनों के बीच, केवल एक फॉलिकल बढ़ता है, जबकि अन्य बढ़ना बंद कर देते हैं और अंडाशय में वापस अवशोषित हो जाते हैं |

अंडाशय में एस्ट्रोजन हार्मोन का स्तर बढ़ता रहता है | 8वें दिन एस्ट्रोजन के बढ़ते स्तर के कारण फॉलिकल बड़ा हो जाता है |

आमतौर पर 8वें दिन तक पीरियड ब्लीडिंग बंद हो जाती है | फॉलिकल से उच्च एस्ट्रोजन का स्तर गर्भाशय की परत को विकसित और मोटा बनाता है |

गर्भाशय की परत रक्त और पोषक तत्वों से भरपूर होती है | जो गर्भावस्था होने पर भ्रूण को पोषण देने में मदद करती है |

एस्ट्रोजेन, एंडोर्फिन के स्तर को बढ़ाने में मदद करता है, और इस दौरान महिला अधिक ऊर्जावान और शांत महसूस करती है |

14वें दिन से कुछ दिन पहले, आपके एस्ट्रोजन का स्तर चरम पर होता है और ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (LH) के स्तर में तेज वृद्धि का कारण बनता है |

एलएच परिपक्व फॉलिकल को अंडाशय से एक अंडा छोड़ने का संदेश देता है, जिसे ओव्यूलेशन कहा जाता है |

यदि महिला ओव्यूलेशन के दिन या ओव्यूलेशन से तीन दिन पहले अपने पार्टनर के साथ संबंध बनाती है तो उसके गर्भवती होने की सबसे अधिक संभावना होती है |

एक महिला के प्रजनन अंग में पुरुष का शुक्राणु तीन से पांच दिनों तक जीवित रह सकता है, और एक महिला का अंडा 12 से 24 घंटे तक जीवित रहता है |

15 से 24 दिनों में, फैलोपियन ट्यूब नए जारी किए गए अंडे को अंडाशय से दूर गर्भाशय की ओर ले जाने में मदद करते है | साथ ही उच्च स्तर का प्रोजेस्टेरोन हार्मोन, जो गर्भाशय की परत को ओर भी अधिक मोटा करने में मदद करता है |

यदि शुक्राणु अंडाणु के साथ फैलोपियन ट्यूब में जुड़ जाता है, तो इसे निषेचन कहा जाता है | निषेचित अंडा फैलोपियन ट्यूब से नीचे खिसक कर गर्भाशय के अस्तर से जुड़ जाएगा | गर्भावस्था तब शुरू होती है जब एक निषेचित अंडा गर्भाशय से जुड़ जाता है |

यदि अंडे को निषेचित नहीं किया जाता है, तो यह टूट जाता है | 24 दिन के आसपास, अगर महिला गर्भवती नहीं होती है तो एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का स्तर कम हो जाता है |

एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर में यह तेजी से बदलाव आपके मूड को बदल सकता है | कुछ महिलाएं दूसरों की तुलना में इन बदलते हार्मोन स्तरों के प्रति अधिक संवेदनशील होती हैं | यानि कुछ महिलाएं पीरियड से पहले के सप्ताह के दौरान चिड़चिड़ी, चिंतित या उदास महसूस करती हैं लेकिन अन्य में ऐसा नहीं होता हैं |

मासिक धर्म चक्र के अंतिम चरण में, गर्भाशय अनिषेचित अंडा और गर्भाशय की परत योनी से निष्कासित हो जाती है | यह प्रक्रिया आपके अगले पीरियड और मासिक धर्म चक्र के पहले दिन से शुरू होती है |

Jagdisha के साथ अपनी राय अवश्य सांझा करे |


Womens Health | Jagdisha For Women


Leave a Reply

Your email address will not be published.