भारतीय वायुसेना ने महिला फाइटर पायलट को शामिल करने को लेकर बड़ा फैसला किया है | रक्षा मंत्रालय के फैसले के अनुसार भारतीय वायुसेना में  महिला फाइटर पायलट  एक्सपेरिमेंट नहीं बल्कि परमानेंट रूप से शामिल होंगी | रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार (01-02-2022) को इस विषय में जानकारी दी | उन्होंने कहा, ” यह भारत की ‘नारी शक्ति’ की क्षमता और महिला सशक्तिकरण के प्रति हमारे प्रधानमंत्री की प्रतिबद्धता का प्रमाण है |”

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्विटर पर लिखा कि रक्षा मंत्रालय ने भारतीय वायु सेना में महिला लड़ाकू पायलटों की भर्ती के लिए शुरू की गई प्रायोगिक योजना को स्थायी करने का फैसला लिया है | सुप्रीम कोर्ट की ओर से प्रतिष्ठित राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (NDA) में महिलाओं के प्रवेश का मार्ग प्रशस्त करने के महीनों बाद यह फैसला आया है |

गणतंत्र दिवस (26-1-2022) के अवसर पर बुधवार को राजपथ पर परेड में देश की पहली महिला राफेल पायलट फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह वायु सेना (IAF) की झांकी का हिस्सा थीं | पिछले साल, फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कंठ IAF की झांकी का हिस्सा बनने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बनी थीं | 


यह भी पढ़ें- हर महिला को सशक्त होने के लिए ये जानना बहुत जरूरी है

फाइटर जेट को उड़ा रहीं हैं, महिला फाइटर पायलट 

महिला लड़ाकू पायलटों को शामिल करने के लिए प्रायोगिक योजना 2016 में शुरू की गई थी | शुरू में, तीन महिला लड़ाकू पायलट पहले बैच का हिस्सा थीं |

फ्लाइंग ऑफिसर अवनी चतुर्वेदी, फ्लाइंग ऑफिसर भावना कंठ और फ्लाइंग ऑफिसर मोहना सिंह जून 2016 में वायु सेना अकादमी, डुंडीगल में संयुक्त स्नातक परेड में लड़ाकू पायलट बनने वाली पहली महिला बनीं थीं |

अब 16 महिला फाइटर पायलट हैं जो राफेल, Su30 MKI और MiG 21 बाइसन जैसे फाइटर जेट उड़ा रही हैं |

2018 में, भारतीय वायु सेना की फ्लाइंग ऑफिसर अवनी चतुर्वेदी ने अकेले लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला बनकर इतिहास रचा था | उन्होंने अपनी पहली सिंगल उड़ान में मिग-21 बाइसन उड़ाया था |

वहीं, भारतीय वायु सेना में लड़ाकू पायलटों के रूप में शामिल होने के साथ सशस्त्र बलों में लड़ाकू भूमिकाएं जो केवल एक पुरुष कार्यक्षेत्र थीं, अब महिलाओं के लिए खोली गई हैं | सेना ने अपनी विमानन शाखा भी महिलाओं के लिए खोली है और नौसेना में युद्धपोतों पर महिला अधिकारी हैं |

सेना ने 2019 में एक महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए महिलाओं को सैन्य पुलिस में शामिल करने की प्रक्रिया शुरू की थी |

नौसेना ने 2020 में डोर्नियर समुद्री विमान मिशन पर महिला पायलटों के अपने पहले समूह को तैनात करने की घोषणा की थी |

विमानवाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य सहित लगभग 15 अग्रिम पंक्ति के युद्धपोतों पर 28 महिला अधिकारियों की तैनात हुई है |

भारतीय सेना ने 2021 में 26 साल की सेवा पूरी करने वाली पांच महिलाओं को कर्नल के पद पर पदोन्नत किया था | यह पहली बार था जब महिला अधिकारी आर्मी मेडिकल कॉर्प्स (एएमसी), जज एडवोकेट जनरल (जेएजी) और आर्मी एजुकेशन कॉर्प्स (एईसी) जैसी शाखाओं के बाहर कर्नल के पद पर पहुंची थीं |

असम राइफल्स और सैन्य पुलिस मूल में महिलाओं को भी सैनिकों के रूप में लिया जा रहा है | अब महिलाएं राष्ट्रीय रक्षा अकादमी की उम्मीदवार भी हो सकती हैं | फरवरी 2020 में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद से भारतीय सेना ने 577 महिला अधिकारियों को स्थायी आयुक्त पद दिया है |

महिला उम्मीदवारों के लिए पहला बैच 

राष्ट्रीय रक्षा अकादमी जून 2022 में महिला उम्मीदवारों के अपने पहले बैच को शामिल करने के लिए तैयार है | सुप्रीम कोर्ट ने अक्टूबर 2021 में एक ऐतिहासिक आदेश में महिलाओं के लिए अकादमी के दरवाजे खोल दिए थे | IAF के नए राफेल जेट के अलावा, IAF की महिला पायलट मिग-21, सुखोई-30 और मिग-29 लड़ाकू विमानों का भी संचालन कर रही हैं | 

महिलाओं को 1992 में पहली बार मेडिकल स्ट्रीम के बाहर सशस्त्र बलों में शामिल होने की अनुमति दी गई थी |

वर्तमान में सेना, नौसेना और वायु सेना में 9,000 से अधिक महिलाएं सेवारत हैं | सशस्त्र बलों में महिलाओं की संख्या पिछले सात वर्षों में लगभग तीन गुना बढ़ गई है |  

Jagdisha के साथ अपनी राय अवश्य सांझा करे|


एक्सपेरिमेंट नहीं अब वायुसेना में परमानेंट होंगी महिला फाइटर पायलट





Leave a Reply

Your email address will not be published.