manisha raisinghani

मनीषा रायसिंघानी ने लॉजीनेक्स्ट (LogiNext) की सह-संस्थापक और सीटीओ हैं| लॉजीनेक्स्ट सेवा के रूप में सॉफ्टवेयर (सास) (software-as-a-service (SaaS)) कंपनियों को रसद और क्षेत्र सेवा संचालन के प्रबंधन और अनुकूलन में मदद करता है। उनके तकनीकी मार्गदर्शन में कंपनी ने बेहतर उत्पादों के साथ विभिन्न वैश्विक बाजारों में जीत हासिल की है जो कि स्व-शिक्षण एल्गोरिदम के आसपास काम करते हैं। उन्होंने प्रमुख उत्पाद बनाए हैं जो लॉजीनेक्स्ट को एशिया, एमईएनए देशों, यूरोप और अमेरिका में प्रति दिन 10 मिलियन से अधिक लदान को लगातार और सफलतापूर्वक अनुकूलित करने में सक्षम बनाता है। मनीषा ने कार्नेगी मेलन यूनिवर्सिटी से सूचना प्रणाली में मास्टर डिग्री की। इसके बाद उन्होंने वार्नर ब्रदर्स के साथ इट्यून्स के लिए डेटा एनालिटिक्स टीम के रुप मे काम किया। लॉगीनेक्स्ट शुरू करने का निर्णय लेने से पहले उन्होंने अमेरिका में आईबीएम (IBM) के साथ भी काम किया|

तकनीकी उद्यमी मनीषा रायसिंघानी ने अपनी रसद अनुकूलन कंपनी (logistics optimisation company) लॉजीनेक्स्ट (LogiNext) की शुरुआत 2014 में कार्नेगी मेलन यूनिवर्सिटी से अपने सहपाठी ध्रुव संघवी के साथ की थी। उनका स्टार्टअप, लॉजीनेक्स्ट सॉल्यूशंस, सास(SaaS) समाधान प्रदान करता है जो लॉजिस्टिक्स योजना और वितरण मार्ग अनुकूलन में सुधार करता है। मनीषा ज्यादातर मुंबई से बाहर काम करती हैं, जबकि उनके सह-संस्थापक और लॉजीनेक्स्ट के सीईओ ध्रुव संघवी अमेरिका से काम करते हैं। केवल चार वर्षों में, यह 10 देशों के 200 ग्राहकों के साथ दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती तकनीकी फर्मों में से एक बन गया है (फाइनेंशियल टाइम्स, स्टेटिस्टिकस् पोर्टल स्टेटिस्टा और आईबीएम के अनुसार)। कंपनी की सीटीओ (CTO), 33 वर्षीय रायसिंघानी का मानना है कि कार्य-जीवन संतुलन अप्रासंगिक होता है, जब काम एक लक्ष्य होता है, और एक सपना वास्तविकता बन जाता है। उसके बाद, यह एक कार्य-जीवन के संगम से अधिक हो जाता है|
LogiNext अलीबाबा द्वारा वित्त पोषित पेटीएम और इंडियन एंजेल नेटवर्क द्वारा समर्थित है; इसने अब तक के निवेश के रूप में $10 मिलियन से अधिक जुटाए हैं। कंपनी ने बहुत ही कम समय में तेजी से सफलता हासिल की है और 2020 के अंत तक 300% से अधिक वृद्धि करने के लिए तैयार है।
 
26 साल की उम्र में, मनीषा रायसिंघानी ने लॉजिस्टिक्स के तरीके को बदलने का फैसला किया, जो भारत के सबसे असंगठित उद्योगों में से एक था। मनीषा ने कार्नेगी मेलन विश्वविद्यालय से सूचना प्रणाली में मास्टर डिग्री और मुंबई विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री प्राप्त की है। लॉजीनेक्स्ट (LogiNext) की शुरुआत 2014 में हुई थी इससे पहले वें आईबीएम और उनके सह-संस्थापक ध्रुविल संघवी डेलॉयट के लिए काम कर रहे थे| वे दोनों लॉजिस्टिक्स में ग्राहकों के लिए काम करते थे और देख रहे थे कि किस तरह से इस क्षेत्र में विघटन आ गया था| जो कई उद्योगों में प्रौद्योगिकी के परिवर्तन के साथ आया था, लेकिन लॉजिस्टिक्स एक ऐसा क्षेत्र था जो परिवर्तन का विरोध कर रहा था, खासकर जब उपभोक्ता की प्रवृत्ति उबर, अमेज़ॅन और उनके सदृश के प्रवेश के साथ तेजी से बदल रही थी। उन दोनों ने इस क्षेत्र में कुछ बेहतर करने का निर्णय किया| उन्होंने अमेरिका में उनकी नौकरियां छोड़ दीं और भारत वापस आ गए और उन्हें एक ऐसे उत्पाद पर कोडिंग शुरु की, जो लॉजिस्टिक्स उद्योग को स्वचालित करने में मदद करेगा। काम करने के लिए दो लोगों के पास एक शानदार दृष्टिकोण था, और वे इस निर्णय के प्रति बहुत उत्साही हैं|
 
मुंबई में मनीषा रायसिंघानी का अपार्टमेंट कुछ महीनों के लिए उनका कार्यालय था और उन्होंने शुरुवाती दौर मे आईएएन (इंडियन एंजेल नेटवर्क) से फंड जुटाया| ई-कॉमर्स, फूड, ग्रोसरी, डिलीवरी और लॉन्ड्री सेवाओं आदि में तेजी के साथ, उन्होंने जबरदस्त सुधार किया जैसे कि मार्गों को अनुकूलित करना, ईटीए की गणना करना, ग्राहकों को बेहतर अनुभव प्रदान करना, आदि।
 
उनका SaaS उत्पाद जो वर्तमान में दुनिया भर में 100 से अधिक उद्यम ग्राहकों द्वारा उपयोग किया जा रहा है, उनके पास करीब 200 सदस्यों की एक टीम है और टाइगर ग्लोबल, स्टीडव्यू कैपिटल और अलीबाबा ग्रुप जैसी कंपनियों से फंडिंग में $ 49 मिलियन जुटाए हैं| हाल के कोविड प्रकोप ने लॉजिस्टिक स्पेस में डिजिटल क्रांति को बड़े पैमाने पर प्रोत्साहित किया है और वें अपने ग्राहकों को बेहतर ग्राहक सेवा में मदद करने के लिए तीव्र गति से बढ़ रहे हैं|
 
LogiNext मील उनका प्रमुख उत्पाद है और इसका उपयोग कई उद्योगों जैसे कि कूरियर और पार्सल, क्यूएसआर चेन, रिटेल ई-कॉमर्स और मूल रूप से किसी भी उद्यम द्वारा किया जाता है जो अंतिम-मील तक वितरण करता है| उनके पास एक सास मूल्य निर्धारण मॉडल है जो ग्राहकों को बहुत अधिक लचीलापन देता है और उत्पाद की शीघ्रता तैनात करता है|
सास (SaaS) में, दो प्रकार के मॉडल होते हैं- एसएमबी और एंटरप्राइज। प्रारंभ में, LogiNext दोनों के द्वारा उनके सभी ग्राहकों की सेवा कर रहे थे। लेकिन समय के साथ, मनीषा ने यह महसूस किया कि उनका उत्पाद उद्यमों के लिए अधिक उपयुक्त है| बड़े पैमाने पर अनुकूलन और स्वचालित करना ही उनका मंत्र है और बड़े उद्यम उनके उत्पाद का अधिकांश लाभ उठाने में सक्षम हैं। एक बार जब उन्हें अपनी मज़बूती का एहसास हो गया, तो उन्होंने अपनी टीम के हर विभाग के लिए प्लेबुक बनाई, जिसमे एक समय मे एक बार ट्वीक किया जाता है, लेकिन यह प्रलेखन आंतरिक रूप से बहुत स्पष्टता देता है कि कंपनी कहां है और वहां कैसे पहुंचना हैं।
 
प्रतियोगिता के संबंध में, उनके सामने दो श्रेणियां हैं। एक नए युग की तकनीकी कंपनियां हैं और दूसरी अवलंबी ओरेकल और एसएपी जैसी कंपनियां| पहले, जब उनका उत्पाद सीमित था, तो बड़े प्रतियोगियों के साथ प्रतिस्पर्धा करना कठिन था, लेकिन समय के साथ उनका उत्पाद परिपक्व हो गया। लॉजीनेक्स्ट का मुख्यालय अमेरिका में है और दुबई, सिंगापुर और मलेशिया में इसके कार्यालय हैं। यह उद्यम ग्राहकों की आवश्यकताएं पूरी करने में मदद करता है।
 
मनीषा रायसिंघानी का विश्वास है कि अगर कोई नए युग की प्रौद्योगिकी कंपनियों की पसंद के साथ प्रतिस्पर्धा करना चाहता है, तो यह ऊँचाई पर जाने के लिए एक दिमाग नहीं है। यह वह जगह है जहां दुनिया चली गई है और जो कोई भी खेल में आगे रहना चाहता है, बदलाव के साथ आगे बढ़ना ही एकमात्र रास्ता है।
 
लॉजीनेक्स्ट मे महिलाएं अग्रणी विभाग है, जैसे – विपणन के विभाग, क्यूए (गुणवत्ता मूल्यांकन), ग्राहक संबंध आदि| मनीषा महिला उद्यमिता की समर्थक हैं। लिंक्डइन पर उनसे जुडने वाली कई स्वतंत्र महिला उद्यमियों के साथ वह काम करती है। वह उन्हें वीकेंड पर समय देती हैं| इसके अलावा, वह कुछ इनक्यूबेटरों और पहल जैसे शी लीड्स टेक के साथ काम करती हैं जहां उन्होंने शुरुआती चरण की महिला उद्यमियों के लिए कुछ अधिवेशन दिए हैं।
 
इस यात्रा ने मनीषा रायसिंघानी को कई पुरस्कारों से सम्मानित किया है – जिसमें नेटएपस इनोवेटिव टेक कंपनी ऑफ द ईयर, एजिस इनोवेशन इन बिग डेटा, सीआईओ च्वाइस अवार्ड सर्वश्रेष्ठ आपूर्ति श्रृंखला लॉजिस्टिक क्लाउड समाधान के लिए, 2018 में फोर्ब्स एशिया 30 अंडर 30 का नाम शामिल है। लेकिन मनीषा के लिए, उनकी सबसे बड़ी उपलब्धि यह है कि उनके परिवार को उन पर गर्व है।
 
समय बदल गया है, लेकिन प्रगति अभी भी धीमी है। आप बाधाओं का सामना कर सकते हैं, लेकिन उनके द्वार फसे नहीं रह सकते हैं; विशेष रूप से गलत रूढ़िवादिता| हमेशा ऐसे लोग होंगे जो लिंग के आधार पर प्रयासों को खारिज करते हैं, लेकिन आपको इससे ऊपर उठना सीखना चाहिए| याद रखें, एक बार जब आप सफलता पा लेते हैं, तो सभी बाधाएं अप्रासंगिक हो जाती हैं| और सफल होने के लिए, आपको खुद के प्रति सच्चा होना होगा| कभी भी समाज की आवश्यकताओं के अनुरूप योग्य बनने के लिये खुद को कभी भी परिवर्तित न करें। समाज अंततः आपके लिए खुद को बदल देगा।
 
यदि आपके आस – पास ऐसी ही कोई महिला जिन्होंने अपने मेहनत और हिम्मत से समाज को परिवर्तित किया है तो आप हमें मेल कर सकते हैं हम उसे समाज के सामने लायेंगे |  हमारी मेल आईडी है : connect.jagdisha@gmail.com  या आप हमें फेसबुक पर भी भेज सकते है  हमारी फेसबुक आईडी जाने के लिए यहाँ क्लिक करें : Jagdisha Facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published.