harbhajan-kaur

जिनका उत्साह ख़तम हो चुका है उनसे वृद्ध कोई नहीं है | उम्र महज एक नम्बर है | एक बार जब आप निर्णय कर लेते हैं तो समस्त सृष्टि इसके फलीभूत होने के लिए तत्पर हो जाती है | ऐसी ही मिसाल है 94वर्षीय हरभजन कौर जिन्होंने 90 वर्ष की उम्र मे शुरु किया था स्टार्ट-अप और अब है फेमस ब्रैड |

हरभजन कौर अमृतसर के नज़दीक तरन-तारन में जन्‍मी थी। फिर शादी के बाद अमृतसर, लुधियाना रही |उनकी तीन बेटियां हैं | पति के निधन के बाद वें चंडीगढ़ में सबसे छोटी बेटी रवीना सूरी के पास रहने लगीं | हरभजन कौर को प्रेरित करने वाली उनकी बेटी रवीना सूरी ही हैं |


एंटरप्रेन्योर बनने की शुरूवात :


एक दिन उनकी बेटी रवीना सूरी ने उनसे उनकी ख्वाहिश के बारे मे पूछा तब उन्होने जवाब दिया, पूरी ज़िंदगी ऐसे ही निकाल दी, इस उम्र तक उन्होनें एक रूपया भी नहीं कमाया। उनकी बेटी ने उनकी इस इच्छा को सराहा और विचारा तो जाना उनकी मां पाक कला मे बहुत निपुण हैं | उन्हे कभी भी खाना खाने के लिए बाहर जाने की जरूरत महसूस नहीं हुई। वह बचपन से ही मां की बेसन की बर्फी की फेन है इसीलिए उन्होने इसी से बिजनेस शुरू करने का आइडिया दिया।

पहली बार उन्होंने अपनी तैयार करकरी हुई बर्फी का स्टॉल चंडीगढ़ की आर्गेनिक बाजार में लगाया तो बर्फी हाथों-हाथ बिक गयी | धीरे-धीरे उनकी बर्फी की चर्चा उनके पड़ोसियों और परिचितों में भी होने लगी। उनका यह बिजनेस लगातार बढ़ता गया | धीरे-धीरे दादी ने आचार, चटनी, बादाम का शरबत, लौकी की आइसक्रीम, टमाटर की चटनी, दाल का हलवा बनाना शूरू कर दिया और एक सफल एंटरप्रेन्योर बन गई। हरभजनस (बचपन याद आ जाएगा) ब्रांड अब प्रसिद्धि की लगातार सीढ़ी चढ़ता जा रहा हैं |उन्हें बैसन की बर्फी की खास रेसिपी को उनके पिता स्व. जयराम सिंह चावला से सीखा था | बर्फी बनाने का उनका अपना तरीका सौ साल से भी अधिक पुराना है |


हरभजन कौर ने अपने शैफ नाती के साथ अपनी रेसिपीज शेयर की हैं और फिलहाल वह अपनी नानी की विरासत को आगे बढ़ा रहे हैं |

 

महिंद्रा ग्रुप के प्रबंध निदेशक और अध्यक्ष आनंद महिंद्रा ने भी हरभजन कौर के काम की सराहाना करते हुए एक ट्वीट किया जिसमे महिंद्रा ने कहा है कि इस उम्र में भी हरभजन कौर के जज्बे से दूसरों को सीख लेनी चाहिए। उन्होंने कौर को इंटरप्रेन्योर ऑफ द ईयर बताया है।

हरभजन कौर के जज्बे की पंजाब के मुख्यमत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने भी ट्वीट करके सराहना की है | कैप्टन अमरिंदर ने ट्वीट किया ‘स्टार्ट अप शब्द अब अकेले मिलेनियल्स से जुड़ा नहीं हो सकता है, क्योंकि चंडीगढ़ की 94 साल की हरभजन कौर सभी के लिए प्रेरणास्त्रोत बन चुकी हैं |

आज उनके हाथ की बर्फी पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर से लेकर आनंद महिंद्रा को भी खूब पसंद आती है।

सच एंटरप्रेन्योर दादी ने यह सिद्ध कर दिया कि उम्र तो बस एक बहाना, इच्छुक व्यक्ति तो कभी कमाल कर सकते है | आपको सहृदय प्रणाम दादी |जबतक किसी को खुद का और अपने काम का साथ मिल रहा है वो बुढा नहीं महसूस कर सकता , चाहे उसकी उम्र कितनी भी हो |

 

यदि आपके आस – पास ऐसी ही कोई महिला जिन्होंने अपने मेहनत और हिम्मत से समाज को परिवर्तित किया है तो आप हमें मेल कर सकते हैं हम उसे समाज के सामने लायेंगे |  हमारी मेल आईडी है : connect.jagdisha@gmail.com  या आप हमें फेसबुक पर भी भेज सकते है  हमारी फेसबुक आईडी जाने के लिए यहाँ क्लिक करें : Jagdisha Facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published.