irs officer amanpreet
आईआरएस अधिकारी अमनप्रीत जो संयुक्त आयकर आयुक्त है | उन्हें सेनेटरी नेपकिन वितरण की प्रेरणा अपनी मित्र प्रियल भारद्वाज से मिली, जो कि अपनी निजि बचत का उपयोग पैड खरीद कर नोएडा के क्षेत्रों में वंचित महिलाओं को वितरित करती हैं |
अमनप्रीत अब तक 11लाख से ज्यादा पैड 17 राज्यों मे वितरित कर दिए हैं |
अमनप्रीत की मित्र प्रियल भारद्वाज जो कि फ़ैशन डिजाइनर है, वें लाॕकडाउन मे संगिनी सहेली ट्रस्ट के माध्यम से नोएडा के ईट भट्टों मे काम करने वाली महिलाओं को पैड वितरित कर रही थी |  इस कार्य के लिए उन्होंने अमनप्रीत को भी शामिल किया | प्रियल द्वारा औरतो को मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता संबंधित जानकारी और पैड वितरित कार्य से अमनप्रीत बहुत प्रभावित हुई |
अमनप्रीत को औरतो की बातों ने काफी अचम्भित किया वे औरते कामकाजी होते हुए भी 20रू का पैड खरीद कर उसका उपयोग करने के स्थान पर मासिक धर्म के  दिनों मे कपडे का उपयोग करती | उन औरतो को पैड खरीदने के स्थान पर घर के अन्य आवश्यक सामान खरीदना उचित लगता क्योंकि उनके बडो ने भी उन्हें यही सिखाया था |
प्रियल के साथ अपने सफर के दौरान अमनप्रीत ने यह समझा कि 50℅ से अधिक महिलाएं सैनिटरी नैपकिन का उपयोग करती ही नहीं हैं | सामाजिक वर्जनाओं और अज्ञानता के कारण अस्वस्थ मासिक धर्म से गुजरना पडता है |
 अमनप्रीत इतनी प्रभावित हुई कि उन्होंने अपनी एक नई यात्रा का शुभारंभ कर दिया | प्रियल के साथ-साथ उन्होंने अपनी सम्पर्क सूची मे उपस्थित 2010 आइआरएस के बैचमेट्स , मित्रो को भी अपनी इस नई पहल मे शामिल कर लिया | उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों तक अपनी मदद पहुँचाने के लिए व्टसप समुह बनाया और सहायक राशी प्रदान करने का अनुग्रह किया | और जल्द ही, भोपाल पलवल संगरूर और अधिक से अधिक स्थानो तक पैड वितरित किए गए |
बंगाल मे चक्रवात अम्फान के बाद, अमनप्रीत ने आईआरएस एसोसिएशन और आयकर खेल खेलव मनोरंजन क्लब से आपदा से प्रभावित लोगों तक मदद पहुँचाने के लिए मदद मांगी | उनके दो बैचमेट्स अतुल पांडे और निवेदिता प्रसाद राशन और सैनिटरी नेपकिन वितरितत करने के लिए अम्फान प्रभावित सूंदरबन के दूरदराज क्षेत्रों में गए |
अमनप्रीत के साथ जम्मु के एक उर्दू शिक्षक भी उनके कार्य में सहयोगी हुए जो उनके फेसबुक सम्पर्क में है, और कोविड नमूना संग्रह विभाग मे कार्यरत हैं | जिन्होंने जिला स्वास्थ्य केन्द्र की महिलाओं के साथ मिल कर डोडा जिला और आसपास के छोटे छोटे गॉव मे पैड वितरण का कार्य किया |
इस सफलता के बाद अमनप्रीत ने निर्णय लिया कि वे दूरदराज क्षेत्रों और जहॉ पर किसी भी गैर-सरकारी संगठन की पहुँच नहीं है, अब उन क्षेत्रों में आगे बढेंगी |
पंजाब मे राशन, मास्क, सुरक्षा किट के साथ-साथ पैड वितरित करने हेतु शिविरो का आयोजन किया | फिर उनका ध्यान जेल कैदियों की ओर भी आकर्षित हुआ | जेल विभाग मे अपनी दिवंगत मॉ के सम्पर्क का उपयोग करते हुए उन्होंने पंजाब की सभी 20 महिलाओं और अरुणाचल प्रदेश की 14 कैदी महिलाओं को पैड वितरित करने मे कामयाबी हासिल की |
दिल्ली मे उन्होंने जीबी नगर की यौनकर्मियो तक पैड और राशन पहुँचाया | मई के अंत मे भारी पैमाने पर तुगलकाबाद मे आग लगने से हुई तबाही से पीडि लोगों तक भी अपनी मदद पहुँचाई |
विभिन्न रोटरी क्लब, पुलिस विभाग आपूर्ति प्रदान करने का उनके प्रयासों मे शामिल हो गए हैं | वॉलमार्ट भी दूरदराज के क्षेत्रों जैसे महाराष्ट्र के बीड और झारखंड के गिर्ड मे पैड वितरण करने की उनकी मुहिम मे शामिल हो गया |
जब उन्होंने राजस्थान के एक गॉव मे अपनी मदद दी तब किसी ने राशन के पैकेट के साथ पैड भी रख दिया तब लोगों ने यह कहते हुए राशन फेक दिया कि ये तो गंदा कर दिया हम नही लेंगे |
राजस्थान के जौहरी गॉव में उन्हें शूटर दादी चंद्रो तोमर और प्रकाशी तोमर का समर्थन मिला | परन्तु लोगों ने उन्हें पैड को छोड सिर्फ मास्क और राशन ही बॉटने को कहा |ऐसा ही दौस गॉव के लोगों ने भी कहा |
तब अमनप्रीत ने मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता संबंधित शिविरो का आयोजन किया | मासिक धर्म सम्बंधित सभी जानकारी डॉक्टरों दी गई | और सभी को समझाया गया कि पैड कोई अस्वास्थ्य कर वस्तु नही है बल्कि आवश्यक है |
अमनप्रीत का मानना है कि शिक्षा और जागरूकता से ही इस तरह की वर्जनाओ से मुक्ति मिल सकती है |
नतमस्तक है अमनप्रीत और उनकी मुहिम को| सच ही है “ शिक्षा ऐसा ब्रमास्त्र है जिसके उपयोग से आप दुनिया को बदल सकते हो “ |
 
यदि आपके आस – पास ऐसी ही कोई महिला जिन्होंने अपने मेहनत और हिम्मत से समाज को परिवर्तित किया है तो आप हमें मेल कर सकते हैं हम उसे समाज के सामने लायेंगे |  हमारी मेल आईडी है : connect.jagdisha@gmail.com  या आप हमें फेसबुक पर भी भेज सकते है  हमारी फेसबुक आईडी जाने के लिए यहाँ क्लिक करें : Jagdisha Facebook

Leave a Reply

Your email address will not be published.